कर्नाटकः लिंगायत मठ के संत शिवमूर्ति की गिरफ्तारी के बाद जांच में चूक! उठ रहे सवाल

कर्नाटकः लिंगायत मठ के संत शिवमूर्ति की गिरफ्तारी के बाद जांच में चूक! उठ रहे सवाल

कर्नाटक के चित्रदुर्ग लिंगायत मठ के संत शिवमूर्ति यौन शोषण के आरोप से घिरे हैं. यौन शोषण के आरोप में शिवमूर्ति की गिरफ्तारी के बाद पुलिस की जांच में चूक के आरोप लग रहे हैं. देर रात गिरफ्तारी के बाद आरोपी की जज के सामने पेशी, मेडिकल टेस्ट और इसके बाद अस्पताल में भर्ती कराए जाने को लेकर पुलिस की की कार्यप्रणाली पर सवाल उठ रहे हैं. 

कर्नाटक के चित्रदुर्ग स्थित लिंगायत मठ के संत शिवमूर्ति को यौन शोषण के आरोप में पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. शिवमूर्ति से डिप्टी एसपी अनिल कुमार पूछताछ कर रहे हैं. बयानों के आधार पर डिप्टी एसपी शिवमूर्ति से पूछताछ कर रहे हैं तो वहीं पुलिस की जांच पर सवाल भी उठने लगे हैं. शिवमूर्ति के गिरफ्तार भी किया तो जल्दबाजी में नजर आई.
शिवमूर्ति से खिलाफ दर्ज मामले की जांच में चूक के आरोप लग रहे हैं. पुलिस की जांच पर सवाल उठ रहे हैं. पहले तो कर्नाटक पुलिस ने मामला दर्ज होने के बाद शिवमूर्ति की गिरफ्तारी में हीलाहवाली की. कर्नाटक पुलिस पहले तो गिरफ्तारी से ही बचती रही और जब शिवमूर्ति को गिरफ्तार भी किया तो जल्दबाजी में नजर आई.
कर्नाटक पुलिस पहले तो गिरफ्तारी से ही बचती रही और जब शिवमूर्ति को गिरफ्तार भी किया तो जल्दबाजी में नजर आई. किसी भी आरोपी को गिरफ्तार करने के बाद उसे कोर्ट में पेश करने के लिए पुलिस के पास 24 घंटे का समय होता है. कर्नाटक पुलिस ने शिवमूर्ति को गिरफ्तार करने के कुछ ही देर बाद रात के दो बजे ही कोर्ट में पेश कर दिया.
सवाल ये भी है कि पुलिस ने जब शिवमूर्ति को रात के दो बजे ही जज के सामने पेश कर दिया तब पुलिस ने आरोपी को हिरासत में भेजने की मांग क्यों नहीं की?  पुलिस ने रात में जज के सामने पेशी के समय शिवमूर्ति को पुलिस हिरासत में भेजे जाने की मांग करने की बजाय दोपहर में ये मांग क्यों की? क्या आरोपी को पहले न्यायिक हिरासत में भेजा जाना और फिर हेल्थ ग्राउंड पर अस्पताल में शिफ्ट किया जाना किसी योजना के तहत किया गया है? पुलिस ने आरोपी को हेल्थ ग्राउंड पर अस्पताल ले जाने के बाद कोर्ट को जानकारी क्यों नहीं दी?
बेंगलुरु भेजने की जल्दी में क्यों थी पुलिस
 शिवमूर्ति की गिरफ्तारी से लेकर अब तक हुए घटनाक्रम को लेकर कर्नाटक पुलिस सवालों के घेरे में है. सवाल ये भी उठ रहे हैं कि जब शिवमूर्ति न्यायिक हिरासत मेथा तब पुलिस कोर्ट से अनुमति लिए बगैर उसे बेंगलुरु अस्पताल स्थानांतरित करने की जल्दी में क्यों थी? कहा जा रहा है कि शिवमूर्ति का सरकारी अस्पताल में स्वास्थ्य परीक्षण किया गया था जिसमें किसी भी तरह की कोई समस्या नहीं मिली. अब सवाल ये भी है कि जब हेल्थ टेस्ट में कोई समस्या पाई ही नहीं गई तो कुछ ही घंटे बाद उसी अस्पताल में शिवमूर्ति को आईसीयू में कैसे शिफ्ट कर दिया गया?


आरोपी ने कैसे चढ़ी थीं कोर्ट रूम की सीढ़ियां 

शिवमूर्ति को सीने में दर्द की शिकायत के बाद अस्पताल ले जाया गया था. शिवमूर्ति को व्हीलचेयर पर अस्पताल ले जाया गया था. लेकिन वही आरोपी कोर्ट रूम की  पहली मंजिल तक कैसे सीढ़ियां चढ़कर गया था. कोर्ट की ओर से पुलिस हिरासत में भेजे जाने के बाद जब शिवमूर्ति अस्पताल लौटा, तब वह टलहता दिख रहा था. सवाल ये भी उठ रहा है कि एक मरीज जो कुछ ही समय पहले आईसीयू में भर्ती था, चंद घंटों में इतना स्वस्थ कैसे हो गया कि वह टहलने लगा.


 आरोपी को पुलिस की गाड़ी से मेडिकल टेस्ट के लिए अस्पताल लाया गया था. मेडिकल टेस्ट के बाद उसे व्हीलचेयर पर एम्बुलेंस से पुलिस हिरासत में भेज दिया गया. सवाल ये भी है कि जब सामान्य मामलों में आरोपियों का मेडिकल टेस्ट एक घंटे से भी कम समय में किया जाता है तब शिवमूर्ति के मेडिकल टेस्ट में तीन घंटे का समय क्यों लगा. वह भी तब, जब कोर्ट ने मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर शिवमूर्ति को अस्पताल में भर्ती कराने की अनुमति देने से इनकार कर दिया था.

  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 595K
    DEATHS:7,508
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 539K
    DEATHS: 6,830
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 496K
    DEATHS: 6,328
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 428K
    DEATHS: 5,615
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 394K
    DEATHS: 5,267
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED:322K
    DEATHS: 4,581
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 294K
    DEATHS: 4,473
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 239 K
    DEATHS: 4,262
  • COVID-19
     INDIA
    DETECTED: 10.1M
    DEATHS: 147 K
  • COVID-19
     GLOBAL
    DETECTED: 79.8 M
    DEATHS: 1.75 M