Ganesh Chaturthi 2022 : भगवान गणेश की मूर्ति स्थापित करने से पहलें इन बातों पर जरूर दे ध्यान, होगा कल्याण

Ganesh Chaturthi 2022 : भगवान गणेश की मूर्ति स्थापित करने से पहलें इन बातों पर जरूर दे ध्यान, होगा कल्याण

गणेश चतुर्थी से पहले आपके लिए ये जानना बेहद जरूरी है कि वास्तु के अनुसार भगवान गणेश की मूर्ति कैसी होनी चाहिए।

गणेश चतुर्थी पर ऐसी मूर्ति लाएं घर

घर में गणेश की मूर्ति लाते समय, उनकी मुद्रा पर ध्यान देना भूलें। आदर्श रूप से, ललितासन में गणेश की मूर्ति को सबसे अच्छा माना जाता है। इसे बैठे हुए गणेश के रूप में भी जाना जाता है। गणेश जी की ऐसी मूर्ति शांति का प्रतीक मानी जाती है। इस तरह की मूर्ति से घर परिवार में शांति बनी रहती है। इसके अलावा, गणपति बप्पा के चित्र या लेटे हुए स्थिति में गणेश की तस्वीर भी बहुत भाग्यशाली मानी जाती हैं क्योंकि यह विलासिता, आराम और धन का प्रतिनिधित्व करती है।

गणेशजी की सूंड की दिशा

अपने घर के लिए गणपति की मूर्ति या मूर्ति चुनते समय, गणेश जी की सूंड पर ध्यान देना आवश्यक है। वास्तु के अनुसार, गणेशजी की मूर्ति की सूंड बाईं ओर झुकी होनी चाहिए, क्योंकि यह सफलता और समृद्धि की दिशा मानी जाती है। ऐसा माना जाता है कि दाईं ओर झुकी हुई सूंड वाली गणेशजी को प्रसन्न करना थोड़ा कठिन होता है।

मोदक और मूषक

घर के लिए गणपति की मूर्ति खरीदते समय, यह सुनिश्चित करें कि मोदक और चूहा भी मूर्ति का हिस्सा हों। ऐसा इसलिए है क्योंकि मूषक को उनका वाहन माना जाता है जबकि मोदक उनकी पसंदीदा मिठाई मानी जाती है। इसलिए, गणेश प्रतिमा का चयन करते समय इस बात का विशेष ख्याल रखें।

सफेद रंग के गणेशजी की मूर्ति

वास्तु शास्त्र के अनुसार, घर के लिए सफेद रंग की गणेश मूर्ति उन लोगों के लिए सही विकल्प है जो शांति और समृद्धि चाहते हैं। आप सफेद गणेश रंग के चित्र भी चुन सकते हैं। जो लोग आत्म-विकास के इच्छुक हैं, उन्हें घर के लिए सिंदूर रंग की गणेश मूर्ति का चुनाव करना चाहिए। सफेद गणेश धन, सुख और समृद्धि को आकर्षित करते हैं। हमेशा याद रखें कि देवता की पीठ घर के बाहर की ओर होनी चाहिए।

इस दिशा में करें गणेशजी की मूर्ति की स्थापना

वास्तु विशेषज्ञों के अनुसार, पश्चिम, उत्तर और उत्तर-पूर्व दिशा में भगवान गणेश की मूर्ति की स्थापना करना अच्छा माना जाता है। याद रखें, घर में रखी सभी गणेशजी की तस्वीरें उत्तर दिशा में होनी चाहिए, क्योंकि ऐसा माना जाता है कि भगवान शिवजी, जो गणेशजी के पिता हैं, इस दिशा में वास करते हैं। अगर आप घर में भगवान गणेश की प्रतिमा लगा रहे हैं, तो उसका मुख घर के मुख्य द्वार की ओर होना चाहिए। गणेश जी की मूर्ति को दक्षिण दिशा में रखें।

ऐसी जगहों पर रखें गणेशजी की मूर्ति

वास्तु विशेषज्ञों के अनुसार गणेश मूर्ति को बेडरूम, गैरेज या लॉन्ड्री एरिया में नहीं रखना चाहिए। इसे सीढ़ियों के नीचे या बाथरूम के पास भी नहीं रखना चाहिए। चूंकि गैरेज या कार पार्किंग क्षेत्र को खाली क्षेत्र माना जाता है, इसलिए घर के इस हिस्से में किसी देवता को रखना अशुभ होता है। साथ ही, सीढ़ियों के नीचे बहुत सारी नकारात्मक ऊर्जाएं होती हैं जो किसी भी वास्तु को रखने के लिए उपयुक्त नहीं होती हैं।

  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 595K
    DEATHS:7,508
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 539K
    DEATHS: 6,830
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 496K
    DEATHS: 6,328
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 428K
    DEATHS: 5,615
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 394K
    DEATHS: 5,267
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED:322K
    DEATHS: 4,581
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 294K
    DEATHS: 4,473
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 239 K
    DEATHS: 4,262
  • COVID-19
     INDIA
    DETECTED: 10.1M
    DEATHS: 147 K
  • COVID-19
     GLOBAL
    DETECTED: 79.8 M
    DEATHS: 1.75 M