श्राद्ध में कौवे को दूध और हलवा क्यों खिलाया जाता है?

श्राद्ध में कौवे को दूध और हलवा क्यों खिलाया जाता है?

भाद्रव मास के कृष्ण पक्ष का अर्थ होता है श्राद्ध के दिन पितरों के उपकार चुकाने के लिए और कृतज्ञता के रूप में यह श्राद्ध मनाया जाता है। श्राद्ध पितरों की स्मृति का पर्व है। कौवे को कागज देने की व्यवस्था अंधविश्वास नहीं है। यह एक भावनात्मक अनुभव है।
श्राद्ध का उल्लेख रामायण महाभारत गरुड़पुराण श्रुति पुराण में मिलता है। एक कौवा एक राक्षस है। उनकी यादें लंबी हैं। जैसे आज के मोबाइल आपके माता-पिता तक आपका संदेश पहुंचाते हैं, जो उन्हें कागज में हलवा खिलाकर संतुष्ट होते हैं। आपका संदेश एक वाहक के रूप में कार्य करता है। कौआ पितृसत्ता का माध्यम है।
वर्षा का जाना और शरद ऋतु का आगमन भद्रवो के समान ही है। इसलिए भादरा में सर्दी-बुखार होता है, मलेरिया अधिक तीव्र होता है क्योंकि आर्द्र वातावरण अधिक होता है, मच्छरों का प्रकोप बढ़ता है।
सुदर्शन महा सुदर्शन घनवती की दो या तीन गोलियां भद्रव के तीसरे दिन रात को सोने से पहले दूध-पुदीने के साथ लेने से क्रोधित पित्त नष्ट हो जाता है। इसलिए इन दुधपाकों को श्राद्ध से जोड़ा गया है। श्राद्धपक्ष में लोग कौवे के साथ इस हलवे को खाते हैं। भद्रवा में सुबह-सुबह पसीना बहाने तक टहलते हुए चांदनी रात में गरबा गाने की योजना थी। आचार्यों ने शरद को रोग की जननी कहा है। कई कहते हैं यम की दाढ़। इसे कहते हैं शतम जीवा शरद:
शरद ऋतु में हार्दिक भोजन करने की सलाह दी जाती है। इसलिए शरद पूनम के दिन दूध पौना खाने का रिवाज है। अपने रिश्तेदारों को कौन याद नहीं करता। उसे हमारी पूजा करनी चाहिए। बेटियां भी अपने रिश्तेदारों की पूजा कर सकती हैं। विश्वास समर्पण की कीमत है।


  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 595K
    DEATHS:7,508
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 539K
    DEATHS: 6,830
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 496K
    DEATHS: 6,328
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 428K
    DEATHS: 5,615
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 394K
    DEATHS: 5,267
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED:322K
    DEATHS: 4,581
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 294K
    DEATHS: 4,473
  • COVID-19
     GUJARAT
    DETECTED: 239 K
    DEATHS: 4,262
  • COVID-19
     INDIA
    DETECTED: 10.1M
    DEATHS: 147 K
  • COVID-19
     GLOBAL
    DETECTED: 79.8 M
    DEATHS: 1.75 M